loader
blog_img
  • 02
  • December

सर्वप्रथम पूज्य आदि-अनादि गणेश जी

सर्वप्रथम पूज्य आदि-अनादि गणेश जी बुद्धि व विद्या के दाता गणेश जी परमात्मा का विघ्ननाशक स्वरूप है। हमारे सभी देवताओं में श्रीगणेश का महत्व सबसे विलक्षण है। अत: प्रत्येक कार्य…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 24
  • November

हालात आज मेरे विपरीत है..

तो कोई भी साथ नही है ..एक वो भी दौर था ..जब हर एक इंसान मुझे उम्मीद के साथ देखता था। समय के साथ आयी संघर्षो की स्थिति में खड़ा…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 10
  • September

कर्म की गति कोई नहीं जान पाया….

कर्म की गति कोई नहीं जान पाया यह सवाल कई लोगों के मन में आता होगा। मैंने तो किसी का बुरा नही किया, फिर मेरे साथ ही ऐसा क्यों हुआ।…

Read More
  • Share :
Call Now Button