loader
blog_img
  • 28
  • February

शिव पुराण कथा के लाभ

शिव पुराण कथा के लाभ पुराने जमाने में जहां धार्मिक आस्थाएं बहुलता से मिलती थी, इसके उलट आज के समय में व्यक्ति इनसे दूरियां करने लगा है। क्योंकि आज की…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 27
  • February

रुद्राभिषेक : भाव के भूखे शिव

रुद्राभिषेक : भाव के भूखे शिव रुद्र यानि शिव। शिवरात्रि, मासिक शिवरात्रि, सोमवार या मौका विशेष पर शिवलिंग पर विशेष प्रकार के अभिषेक किये जाते हैं, जिनसे मनोवांछित फल की…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 26
  • February

वेदसार शिवस्तोत्रम्

वेदसार शिवस्तोत्रम् आज के समय में हर कोई शार्ट-कट अपनाना चाहता है, चाहे वह नौकरी में हो, व्यवसाय में हो या फिर घर-परिवार में। इसके चलते हर मनुष्य तमाम परेशानियों…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 25
  • February

शिवलिंग पर चढ़ाई जाने वाली चीजों का होता है खास महत्व

शिवलिंग पर चढ़ाई जाने वाली चीजों का होता है खास महत्व भगवान शिव के शिवलिंग पर अभिषेक करने से भोलेनाथ शीघ्र प्रसन्न होते हैं। शिवलिंग पर अलग-अलग चीजों से भी…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 25
  • February

डिप्रेशन और उपाय

डिप्रेशन और उपाय इस आर्थिक युग में जहां चारों ओर आपाधापी पसरी हुई नजर आती है, वहां स्वास्थ्य संबंधी विकारों का होना आश्चर्य की बात नहीं है। लगभग हर दूसरा…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 22
  • February

फाल्गुन में करें चन्द्र देव की उपासना

फाल्गुन में करें चन्द्र देव की उपासना हिंदू पंचांग का आखिरी मास फाल्गुन चल रहा है। वैसे तो शास्त्रों में सभी मास की अपनी-अपनी विशेषता और गुण होते हैं। माघ…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 21
  • February

महाशिवरात्रि : करें व्रत और पूजा

महाशिवरात्रि : करें व्रत और पूजा महाशिवरात्रि पर सभी को व्रत-उपवास करना चाहिए, जिससे भोलेनाथ प्रसन्न होकर हर बाधा हर लेते हैं। महाशिवरात्रि पर पुरुष, स्त्री, कन्या सभी को व्रत…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 20
  • February

महाशिवरात्रि : शिव महिम्न स्तोत्रम्

महाशिवरात्रि : शिव महिम्न स्तोत्रम् शिव महिम्न स्तोत्रम की महिमा अपरम्पार है। शिव भक्तों को महिम्न स्तोत्र सर्वाधिक प्रिय होता है। महाशिवरात्रि पर इस स्तोत्र के उच्चारण के साथ शिवलिंग…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 19
  • February

महाशिवरात्रि : शिव तांडव स्तोत्र

महाशिवरात्रि : शिव तांडव स्तोत्र देवों के देव महादेव की उपासना इंसान को जीवन-मृत्यु के काल चक्र से मुक्ति दिला देती है। शिव की अराधना में तांडव स्तोत्र का पाठ…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 15
  • February

महाशिवरात्रि : शिव है दयालु

महाशिवरात्रि : शिव है दयालु महाशिवरात्रि पर शिव जी की विशेष-पूजा अर्चना चारों प्रहर की जाती है। पूरी रात्रि जागरण कर शिव स्तुतियों से शिव को प्रसन्न किया जाता है।…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 14
  • February

शिव स्रोत लिंगाष्टकम

शिव स्रोत लिंगाष्टकम भगवान भोलेनाथ के लिंगस्वरूप की स्तुति कर भोलेनाथ को शीघ्र प्रसन्न करने का उत्तम अष्टक है, जो कोई भक्त पूर्ण आस्था तथा श्रद्धा सहित भोले बाबा के…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 13
  • February

भगवान शिव का महामंत्र

भगवान शिव का महामंत्र महामृत्युंजय मंत्र महादेव का महामंत्र है। महादेव के इस महामंत्र का जाप करने से सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। ये वो महामंत्र है जिनका जाप…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 12
  • February

सभी मनोरथ की पूर्ति ओम नम: शिवाय मंत्र से

सभी मनोरथ की पूर्ति ओम नम: शिवाय मंत्र से ऊं नम: शिवाय का अर्थ 'ऊं नम: शिवाय' की पुराणों में बहुत महिमा बताई गई है। भगवान शिव की पूजा के…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 12
  • February

विघ्न-बाध दूर करती कृष्ण पक्ष की चतुर्थी

विघ्न-बाध दूर करती कृष्ण पक्ष की चतुर्थी शिव पुराण में आता हैं कि हर महीने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी (पूनम के बाद की) के दिन सुबह में गणपतिजी का…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 12
  • February

शिव की कृपा पाने के लिए करें शिव मानस पूजा

शिव की कृपा पाने के लिए करें शिव मानस पूजा शिव महापुराण के अनुसार मनुष्य को पूरे मन, प्रेम एवं लगन से भगवान का पूजन करना चाहिए। पूजा के लिए…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 11
  • February

शिव की महिमा : रुद्राष्टकम्

शिव की महिमा : रुद्राष्टकम् शिव की महिमा अपरम्पार है। शिव की पूजा-आराधना करने से शिव अतिशीघ्र प्रसन्न होने वाले देव भी हैं। शिव की कई स्तुतियां हैं जिनमें रुद्राष्टकम…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 08
  • February

शिव कृपा से रुद्राक्ष की उत्पत्ति

शिव कृपा से रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शिव अपने भक्तों पर शीघ्र प्रसन्न होने वाले और जगत के जनकल्याण के प्रेरणा पुंज स्वरूप है। ऐसे ही रुद्राक्ष, जो शिव को…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 06
  • February

माघ मास की अंतिम 3 तिथियाँ दिलाएं महापुण्य पुंज

माघ मास की अंतिम 3 तिथियाँ दिलाएं महापुण्य पुंज शास्त्रों-पुराणों में कलियुग में भगवान की प्राप्ति को प्राप्त करना बहुत ही सहज बताया गया है। केवल प्रभु का नाम सुमिरन…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 06
  • February

बिल्ववृक्ष की जड़ से फायदे

बिल्ववृक्ष की जड़ से फायदे धर्म-ग्रंथों शास्त्रों में पेड़-पौधों के पूजन आदि के विधान अनन्तकाल से मनुष्य सुनता-देखता आया है। उसी के परिणामस्वरूप आज भी हमारे यहां पीपल, बड़ का…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 05
  • February

पूर्णिमा पर करें पितृ तर्पण

पूर्णिमा पर करें पितृ तर्पण पूर्णिमा तिथि किसी त्यौहार से कम नहीं होती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन की गई पूजा-उपासना और दान व्यक्ति को नित्य प्रति समस्याओं…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 02
  • February

प्रकृति का उपहार फाल्गुन मास

प्रकृति का उपहार फाल्गुन मास 10 फरवरी, 2020 को फाल्गुन मास की शुरुआत है साथ ही यह हिंदू पंचांग का आखिरी महीना होता है। फाल्गुन मास प्रकृति में परिवर्तन के…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 31
  • January

केवल स्नान मात्र से स्वर्ग की प्राप्ति

केवल स्नान मात्र से स्वर्ग की प्राप्ति शास्त्रों और पुराणों के मुताबिक माघ महीने का धार्मिक दृष्टि से बहुत अधिक महत्वपूर्ण है। मान्यताओं के अनुसार इस मास में श्री विष्णु…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 30
  • January

17 फरवरी, रवि प्रदोष

रवि प्रदोष 17 फरवरी को वैसे तो पूरे माघ महीने का विशेष महत्व होता है। रवि प्रदोष का शुभ योग माघ शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को बन रहा है। शुक्लपक्ष…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 29
  • January

माघ स्नान महिमा

माघ स्नान महिमा भारतीय संवत्सर का ग्यारहवां चंद्रमास और दसवां सौरमास माघ कहलाता है। मघा नक्षत्र से युक्त होने के कारण इस महीने का नाम का माघ नाम पड़ा। ऐसी…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 28
  • January

वसंत पंचमी पर करें मां सरस्वती की पूजा

वसंत पंचमी पर करें मां सरस्वती की पूजा या कुन्देन्दु तुषारहार धवला, या शुभ्र वस्त्रावृता। या वीणावरदंडमंडितकरा, या श्वेत पद्मासना।। या ब्रह्मास्च्युत शंकर प्रभृतिर्भिरदेवा: सदाबंदिता:। सा मां पातु सरस्वती देवी,…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 11
  • January

” मकर संक्रान्ति पुण्यकर्म, दान एवं मंत्र जाप “

" मकर संक्रान्ति पुण्यकर्म, दान एवं मंत्र जाप " हमारे देश में हर साल मकर संक्रांति का पर्व सूर्य के उत्तरायण होने की खुशी में बहुत ही उमंग व उत्साह…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 06
  • January

वसंत पंचमी से बसंत ऋतु का आगमन

वसंत पंचमी से बसंत ऋतु का आगमन परिवर्तन प्रकृति का नियम है। और इसी परिवर्तन को जिस उत्साह के साथ जीवन में परिवर्तन का मनुष्य ने स्वागत किया वही त्योहारों…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 04
  • January

संतान प्राप्ति और संतान सुख के लिए करें पुत्रदा एकादशी

संतान प्राप्ति और संतान सुख के लिए करें पुत्रदा एकादशी पौष शुक्ल पक्ष की एकादशी और श्रावण की एकादशी को पुत्रदा एकादशी के नाम से जाना जाता है। यानि इन…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 25
  • December

ग्रहण काल में क्या करें, क्या न करें

ग्रहण काल में क्या करें, क्या न करें 26 दिसम्बर 2019 को सूर्यग्रहण उत्तर भारत में खंडग्रास व दक्षिण भारत में कंकणाकृति के रूप में नजर आएगा। सूर्यग्रहण में ग्रहण…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 24
  • December

सूर्यग्रहण : 26 दिसम्बर, 19 को करें जाप-दान

सूर्यग्रहण : 26 दिसम्बर, 19 को करें जाप-दान 26 दिसम्बर 2019 को सूर्यग्रहण उत्तर भारत में खंडग्रास व दक्षिण भारत में कंकणाकृति के रूप में नजर आएगा। ग्रहण काल सुबह…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 22
  • December

ग्रहण काल में करें मंत्र सिद्धि

ग्रहण काल में करें मंत्र सिद्धि मंत्र सिद्धि के लिए सर्वश्रेष्ठ समय ग्रहण को माना गया है। ग्रहण काल में किसी भी एक मंत्र को, जिसकी सिद्धि करना हो या…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 20
  • December

मलमास में करें ये 3 उपाय

मलमास में करें ये 3 उपाय मलमास का महीना 16 दिसंबर से शुरू हो चुका हैं। सूर्य की चाल इस पूरे महीने धीमी हो जाती है। जिसकी वजह से किसी…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 19
  • December

प्रतिदिन अघ्र्य देकर सूर्य देव को करें प्रसन्न

प्रतिदिन अघ्र्य देकर सूर्य देव को करें प्रसन्न प्रत्यक्षं किं प्रमाणम्। प्रत्यक्ष को प्रमाण की आवश्यकता नहीं होती, वैसे ही सूर्य देव पृथ्वी पर साक्षात देवता हैं। सूर्य देव जीवन…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 18
  • December

सफला एकादशी 2019

सफला एकादशी 2019 जैसा कि नाम से ही पता चलता है कि सफला यानि सफलता की प्रतीक। इस दिन किए गए धार्मिक अनुष्ठान अनंत गुणा फलदायी तो होते ही हैं…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 18
  • December

मलमास में जप-तप का मिलता है विशेष फायदा

मलमास में जप-तप का मिलता है विशेष फायदा 16 दिसंबर 2019 से मलमास का आरंभ हो चुका है। मार्गशीर्ष मास में पडऩे वाला यह मलमास 16 दिसंबर से आरंभ होकर…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 16
  • December

गुणों की खान तुलसी पौधा

गुणों की खान तुलसी पौधा प्राचीन काल से ही यह परंपरा चली आ रही है कि घर में तुलसी का पौधा होना चाहिए। शास्त्रों में तुलसी को पूजनीय, पवित्र और…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 14
  • December

ग्रहों की दशा हो तो करें ये उपाय

ग्रहों की दशा हो तो करें ये उपाय जहां समस्या है वहां समाधान भी है। बस, समाधान के लिए नियमतता और शुद्धता के साथ उस ओर अग्रसर होने की आवश्यकता…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 14
  • December

पौष माह के व्रतों से मिलती है सफलता, आरोग्य, संतान, सौभाग्य और सुख-समृद्धि

पौष माह के व्रतों से मिलती है सफलता, आरोग्य, संतान, सौभाग्य और सुख-समृद्धि प्रत्येक व्यक्ति जीवन में चाहता है कि उसे सफलता, आरोग्यता, संतान सुख, सौभाग्य और सुख-समृद्धि की प्राप्ति…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 12
  • December

ललाट पर तिलक लगाने से आत्मबल में बढ़ोतरी

ललाट पर तिलक लगाने से आत्मबल में बढ़ोतरी हिन्दू धर्म ग्रंथों और ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि तिलक धारण किया जाता है तो सभी पाप नष्ट हो जाते है। सनातन…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 08
  • December

ऐश्वर्य, श्री, ज्ञान और वैराग्य की प्राप्ति करें पौष माह में

ऐश्वर्य, श्री, ज्ञान और वैराग्य की प्राप्ति करें पौष माह में सूर्य देवता के भग नाम से इस माह में उनकी पूजा करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। शास्त्रों…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 04
  • December

आदि-व्याधि से निजात के लिए करें हनुमान बाहुक पाठ

आदि-व्याधि से निजात के लिए करें हनुमान बाहुक पाठ महाबली हनुमान भक्ति और शक्ति के अद्भुत प्रतीक हैं। हनुमान सरल भक्ति और प्रेम से प्रसन्न होते हैं। इन्होंने ही लक्ष्मण…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 03
  • December

ब्रह्म मुहूर्त का महत्व

ब्रह्म मुहूर्त का महत्व ब्रह्म यानि सत्य। ब्रह्म मुहूर्त को धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों तरह से बहुत महत्व दिया जाता है। धार्मिक रूप से जहां वेद शास्त्रों तक में ब्रह्म…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 02
  • December

सफलता, सुख-शांति-समृद्धि के लिए पूजा-अर्चना

सफलता, सुख-शांति-समृद्धि के लिए पूजा-अर्चना प्रत्येक व्यक्ति जीवन में सुख-शांति-समृद्धि और सफलता की चाहना रखता है, लेकिन उसके लिए की जा रही मेहनत का परिणाम उसके अनुरूप नहीं मिल पाता।…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 05
  • November

कार्तिक पूर्णिमा पर करें दीपदान और दान-पुण्य (2)

कार्तिक पूर्णिमा पर करें दीपदान और दान-पुण्य वैसे तो पूरा कार्तिक मास धार्मिक कार्यों के लिए सर्वोत्तम माना गया ही है, वहीं कार्तिक पूर्णिमा पर बनने वाले विशेष संयोग इस…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 17
  • October

कार्तिक मास में करें दीपदान

महापुण्यदायक तथा मोक्षदायक कार्तिक के मुख्य नियमों में सबसे प्रमुख नियम है दीपदान। दीपदान का अर्थ होता है आस्था के साथ दीपक प्रज्वलित करना। कार्तिक में प्रत्येक दिन दीपदान जरूर…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 28
  • September

सर्व पितृ अमावस्या

सर्व पितृ अमावस्या जिन्होंने हमें पाला-पोसा, बड़ा किया, पढ़ाया-लिखाया, हममें भक्ति, ज्ञान एवं धर्म के संस्कारों का सिंचन किया उनका श्रद्धापूर्वक स्मरण करके उन्हें तर्पण-श्राद्ध से प्रसन्न करने के दिन…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 26
  • September

नवरात्रि में पाएं आदिशक्ति का वरदहस्त

नवरात्रि में पाएं आदिशक्ति का वरदहस्त नवरात्रि पर्व का हिंदू धर्म में बहुत ही विशेष स्थान है। नवरात्रि का पर्व हर्ष उल्लास और अपने सभी सपनों को पूर्ण करने के…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 25
  • September

अमावस्या को करें पितृ दोष निवारण पूजा

अमावस्या को करें पितृ दोष निवारण पूजा वैसे तो अमावस्या का महत्व सर्वविदित है ही, लेकिन श्राद्ध पक्ष की अमावस्या का महत्व तब और भी अधिक हो जाता है जिसका…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 16
  • September

श्राद्ध कर्म करके पाएं पितरों का आशीर्वाद

श्राद्ध कर्म करके पाएं पितरों का आशीर्वाद श्रद्धया इति श्राद्धम्। इतनी सरल परिभाषा और इतना ही सरल कार्य। लेकिन जान-बूझकर या अज्ञानतवश या संकोच वश कोई इस कार्य को नहीं…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 13
  • September

भौतिकता और आध्यात्मिकता में सामंजस्य जरूरी

भौतिकता और आध्यात्मिकता में सामंजस्य जरूरी मानव-जीवन के दो स्तर हैं एक बाह्य दूसरा आन्तरिक, एक भौतिक दूसरा आत्मिक। इनमें से जिसकी प्रधानता होती है उसी के अनुसार जीवन का…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 12
  • September

परम्पराएं और वैज्ञानिक कारण-2

परम्पराएं और वैज्ञानिक कारण-2 लगातार................2 हिन्दू धर्म की मान्यताएं और उनके वैज्ञानिक कारण के साथ संस्कारों से जुड़ी कुछ बातों का यहां जिक्र किया गया है। कल कुछ बातें और…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 11
  • September

परम्पराएं और वैज्ञानिक कारण-1

परम्पराएं और वैज्ञानिक कारण-1 हिन्दू धर्म में मान्यताएं है कि पूर्ण श्रद्धा और विश्वास से किए गए कर्म फलीभूत होते हैं। इन श्रद्धा और विश्वास में व्रत-उपवास से लेकर संस्कार…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 09
  • September

श्राद्ध पक्ष : तर्पण और दान

विधि का विधान ही ऐसा है कि प्रत्येक मनुष्य के जीवन में संघर्ष और समस्याएं निहित होती हैं। संघर्ष और समस्याएं जन्म से लेकर मृत्यु पर्यन्त तक सदैव बनी रहती…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 07
  • September

अनन्त चतुर्दशी

भगवान की महिमा को अनन्त कहा गया है जिसका अर्थ है जिसका अंत न हो। कहा भी गया है कि हरि अनन्त, हरि कथा अनन्ता। यानि हरि तो अनन्त है…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 31
  • August

गणेश अथर्वशीर्ष पाठ

मन की शांति चाहिए तो आने वाली गणेश चतुर्थी से गणेश अथर्वशीर्ष का पाठ अवश्य करें तथा इसे प्रतिदिन कर पाएं तो सोने में सुगंध वाली कहावत आपके जीवन पर…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 28
  • May

मान-सम्मान में वृद्धि के लिए प्रतिदिन सूर्य देव को करें जल अर्पित

हिन्दू धर्म में पंचदेव बताए गए हैं। इनकी पूजा हर काम की शुरुआत में की जाती है। ये पंचदेव हैं- श्रीगणेश, शिवजी, विष्णुजी, देवी दुर्गा और सूर्य देव। सूर्य देव…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 05
  • April

मंत्र का महत्व और फायदे

हिंदू धर्म के अंतर्गत मंत्रों का विशेष महत्व है। इन मंत्रों के माध्यम से कई विशेष सिद्धियां प्राप्त की जा सकती हैं। धर्म शास्त्रों में एक ऐसे मंत्र का उल्लेख…

Read More
  • Share :
Call Now Button