loader
blog_img
  • 28
  • September

सर्व पितृ अमावस्या

सर्व पितृ अमावस्या जिन्होंने हमें पाला-पोसा, बड़ा किया, पढ़ाया-लिखाया, हममें भक्ति, ज्ञान एवं धर्म के संस्कारों का सिंचन किया उनका श्रद्धापूर्वक स्मरण करके उन्हें तर्पण-श्राद्ध से प्रसन्न करने के दिन…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 26
  • September

नवरात्रि में पाएं आदिशक्ति का वरदहस्त

नवरात्रि में पाएं आदिशक्ति का वरदहस्त नवरात्रि पर्व का हिंदू धर्म में बहुत ही विशेष स्थान है। नवरात्रि का पर्व हर्ष उल्लास और अपने सभी सपनों को पूर्ण करने के…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 25
  • September

अमावस्या को करें पितृ दोष निवारण पूजा

अमावस्या को करें पितृ दोष निवारण पूजा वैसे तो अमावस्या का महत्व सर्वविदित है ही, लेकिन श्राद्ध पक्ष की अमावस्या का महत्व तब और भी अधिक हो जाता है जिसका…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 16
  • September

श्राद्ध कर्म करके पाएं पितरों का आशीर्वाद

श्राद्ध कर्म करके पाएं पितरों का आशीर्वाद श्रद्धया इति श्राद्धम्। इतनी सरल परिभाषा और इतना ही सरल कार्य। लेकिन जान-बूझकर या अज्ञानतवश या संकोच वश कोई इस कार्य को नहीं…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 13
  • September

भौतिकता और आध्यात्मिकता में सामंजस्य जरूरी

भौतिकता और आध्यात्मिकता में सामंजस्य जरूरी मानव-जीवन के दो स्तर हैं एक बाह्य दूसरा आन्तरिक, एक भौतिक दूसरा आत्मिक। इनमें से जिसकी प्रधानता होती है उसी के अनुसार जीवन का…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 12
  • September

परम्पराएं और वैज्ञानिक कारण-2

परम्पराएं और वैज्ञानिक कारण-2 लगातार................2 हिन्दू धर्म की मान्यताएं और उनके वैज्ञानिक कारण के साथ संस्कारों से जुड़ी कुछ बातों का यहां जिक्र किया गया है। कल कुछ बातें और…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 11
  • September

परम्पराएं और वैज्ञानिक कारण-1

परम्पराएं और वैज्ञानिक कारण-1 हिन्दू धर्म में मान्यताएं है कि पूर्ण श्रद्धा और विश्वास से किए गए कर्म फलीभूत होते हैं। इन श्रद्धा और विश्वास में व्रत-उपवास से लेकर संस्कार…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 10
  • September

कर्म की गति कोई नहीं जान पाया….

कर्म की गति कोई नहीं जान पाया यह सवाल कई लोगों के मन में आता होगा। मैंने तो किसी का बुरा नही किया, फिर मेरे साथ ही ऐसा क्यों हुआ।…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 09
  • September

श्राद्ध पक्ष : तर्पण और दान

विधि का विधान ही ऐसा है कि प्रत्येक मनुष्य के जीवन में संघर्ष और समस्याएं निहित होती हैं। संघर्ष और समस्याएं जन्म से लेकर मृत्यु पर्यन्त तक सदैव बनी रहती…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 07
  • September

अनन्त चतुर्दशी

भगवान की महिमा को अनन्त कहा गया है जिसका अर्थ है जिसका अंत न हो। कहा भी गया है कि हरि अनन्त, हरि कथा अनन्ता। यानि हरि तो अनन्त है…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 31
  • August

गणेश अथर्वशीर्ष पाठ

मन की शांति चाहिए तो आने वाली गणेश चतुर्थी से गणेश अथर्वशीर्ष का पाठ अवश्य करें तथा इसे प्रतिदिन कर पाएं तो सोने में सुगंध वाली कहावत आपके जीवन पर…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 28
  • May

मान-सम्मान में वृद्धि के लिए प्रतिदिन सूर्य देव को करें जल अर्पित

हिन्दू धर्म में पंचदेव बताए गए हैं। इनकी पूजा हर काम की शुरुआत में की जाती है। ये पंचदेव हैं- श्रीगणेश, शिवजी, विष्णुजी, देवी दुर्गा और सूर्य देव। सूर्य देव…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 05
  • April

ग्रहों में दोष हो तो करें ये उपाय

कहते-सुनते आए हैं कि अगर मकान की नींव मजबूत होगी तो कंगूरा मजबूत बना रहेगा। ऐसे जीवन में ग्रहों की स्थितियां अनुकूल हो तभी जीवन में खुशियों की सौगात मिलती…

Read More
  • Share :
blog_img
  • 05
  • April

मंत्र का महत्व और फायदे

हिंदू धर्म के अंतर्गत मंत्रों का विशेष महत्व है। इन मंत्रों के माध्यम से कई विशेष सिद्धियां प्राप्त की जा सकती हैं। धर्म शास्त्रों में एक ऐसे मंत्र का उल्लेख…

Read More
  • Share :