loader
blog_img
  • 26
  • September

नवरात्रि में पाएं आदिशक्ति का वरदहस्त

नवरात्रि में पाएं आदिशक्ति का वरदहस्त
नवरात्रि पर्व का हिंदू धर्म में बहुत ही विशेष स्थान है। नवरात्रि का पर्व हर्ष उल्लास और अपने सभी सपनों को पूर्ण करने के साथ माता आदिशक्ति की कृपा पाने का पर्व है। शक्ति आराधना के इन दिनों में कुछ बातों का ध्यान रखते हुए भक्त अपने जीवन के सभी संकटों को दूर करके अपना जीवन असीम आनंद से भर सकते हैं।
यदि आप नवरात्र के सभी व्रत न भी रख पायें तो भी कम से कम पहला और आखिरी व्रत अवश्य ही रखें। प्याज, लहसुन, मांस, मदिरा, बीड़ी, सिगरेट, तंबाकू और पान मसाले आदि व्यसनों का बिलकुल भी प्रयोग न करें। इन दिनों यह विशेष ध्यान दें कि आप क्रोध बिलकुल भी ना करें और घर में भूल कर भी कलह-कलेश न हो क्योंकि जिस घर में कलह होती है वहां पर माता को आप कैसे बुला सकते हैं?
जिस भी घर में नवरात्रि को श्री सूक्त का पाठ प्रतिदिन होता है उस घर में कभी भी आर्थिक संकट नहीं आता है। यदि किसी व्यक्ति के जीवन में बहुत परेशानी, अस्थिरता रहती है तो वह या उसकी पत्नी नवरात्रि में दुर्गा सप्तशती का प्रतिदिन सम्पूर्ण अथवा एक या एक से अधिक पाठ करके माता की कपूर और लौंग से आरती करें तो उसके सभी संकट कटने लगते हैं। यदि आप या आपके घर में दुर्गा सप्तशती का पाठ कोई भी नहीं कर पा रहा है तो आप किसी योग्य ब्राह्मण से भी इसका पाठ करवा सकते है।
नवरात्रि में पूजा के समय प्रतिदिन माता को शहद एवं इत्र चढ़ाना कतई भी न भूलें। नौ दिन के बाद जो भी शहद और इत्र बच जाएं उसे प्रतिदिन माता का स्मरण करते हुए खुद इस्तेमाल करें। मां की आप पर सदैव कृपा दृष्टि बनी रहेगी।
पहले नवरात्र में एक लाल कपड़े में ग्यारह कौडिय़ां और तीन गोमती चक्र रख कर माता के पूजन के साथ उस पर हल्दी से तिलक करके उसे पूजा घर में रख दें। नवमी को हवन करने, कन्याओं का पूजन करने के बाद इन्हें उसी लाल कपड़े में बांधकर घर की रसोई में ऊंचाई पर बांध दें। आपके घर पर सदैव मां लक्ष्मी का वास रहेगा।
नवरात्रि को मां दुर्गा के साथ हनुमानजी व भैरव की पूजा विशेष फलदायी है। इस दिन जो भी भक्त हनुमान चालीसा का पाठ करता है या सुंदरकांड का पाठ करता तो उसे शनिदेव भी नहीं सताते हैं। नवरात्रि के प्रत्येक मंगलवार, शनिवार को बजरंग बली को सिंदूर और चमेली का तेल अवश्य ही अर्पित करें।
नवरात्र के शनिवार को सूर्योदय के पहले पीपल के ग्यारह पत्ते लेकर उन पर राम नाम लिख कर इन पत्तों की माला बनाकर इसे हनुमानजी को पहना दें। इससे कारोबार की सभी परेशानियां दूर होती हैं। यह प्रयोग बिलकुल मौन रहकर करें।
नवरात्रि में दिल खोलकर आप अपनी श्रद्धा और सामथ्र्य के अनुसार दान पुण्य करें। इन दिनों आपके द्वारा दान पुण्य करने से उसका अक्षय फल प्राप्त होता है। आप प्रतिदिन छोटी कन्याओं को कोई न कोई उपहार अवश्य ही दें। अपने माता पिता, बहन-भाई और पत्नी को भी कोई न कोई उपहार देकर चकित जरूर करते रहें। गरीब और असहाय की मदद करने का मौका तो बिलकुल भी न गवाएं।
आपने माता का आह्वान किया है उन्हें अपने घर में बुलाया है इसलिए सुबह शाम जो भी घर में भोजन बनायें सबसे पहले उसका देवी मां को भोग लगायें उसके बाद ही घर के सदस्य उसका सेवन करें याद रहे माता या किसी भी मेहमान को भूखा न रखें।
घर के छोटे बच्चों विधार्थियों से माता दुर्गा को केले का भोग लगवाएं फिर उनमे से कुछ केले दान में दे दें एवं बाकी केलो को प्रसाद के रूप में घर के लोग ग्रहण करें इससे बच्चों की बुद्धि का विकास होता है। नवरात्र में प्रात: श्रीरामरक्षा स्तोत्र का पाठ करने से हर कार्य सफल होते है, कार्यों के मार्ग में आने वाली समस्त विघ्न बाधाएं शांत होती हैं।
आप माता की आराधना सुख सम्पन्नता और सफलता के लिए कर रहे है इसलिए प्रेमपूर्वक, नित्य प्रति नियमपूर्वक तथा प्रसन्नतापूर्वक कार्यों को सम्पादित करें। माता की सच्ची आराधना आपको आर्थिक रूप से अवश्य ही सक्षम बनाएगी।
प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष दिक्कत-परेशानी गाहे-बगाहे सामने आ ही जाती है, जिससे बनते हुए काम बिगड़ते प्रतीत होने लगते हैं ऐसे में नवरात्र के नौ दिनों में की गई पूजा वर्ष पर्यन्त आपको इन दिक्कतों-परेशानियों से बचाने वाली हो सकती है। सुख-समृद्धि के इस पर्व को दृढ़ संकल्पित होकर मां की आराधना में बिताकर आप न केवल सुख-समृद्धि बल्कि इहलौकिक व पारलौकिक सुखों का निर्माण भी करने वाले हो सकते हैं।
ऊँ ऐं क्लीं चामुण्डायै विच्चै

  • Share :